अभी-अभी
recent

लखनऊ से एक कविता केन्द्रित पत्रिका " कविता बिहान " की शुरूआत


दोस्तो आज लखनऊ से एक कविता केन्द्रित पत्रिका " कविता बिहान " की शुरूआत हुई है । इस अंक में जाने माने कवि शिरीष मौर्य का रघुवीर सहाय जी की कविता पर गम्भीर - महत्वपूर्ण आलेख है । भारतीय कविता की भारतीयता " शीर्षक से अग्रज दिविक रमेशका लेख और " नयी इबारत लिखते समकालीन कविता के युवा स्वर " पर आरसी चौहान का पठनीय जरूरी आलेख है ।जनकवि मानबहादुर सिंह की कविता पर भाई उमाशंकर सिंह परमार का आलेख व वरिष्ठ कवि राजेश जोशी से अनीता मिश्रा की महत्वपूर्ण
बातचीत है । साथ ही आज के कइयों महत्वपूर्ण कवियों की कवितायें हैं । 

इसमें स्वप्निलश्रीवासतव , केशव तिवारी , वसंत सकरगाए , प्रमोद, शम्भू यादव, संतोष कुमार चतुर्वेदी आदि हैं । तीसरा सप्तक की महत्वपूर्ण कवयित्री कीर्ति चौधरी का स्मरण करते हुए भाई ब्रजेश नीरज का लेख है और कीर्ति चौधरी की चुनी हुई कविताएं हैं । जो कीर्ति चौधरी की कविता के दूसरे पहलुओं से परिचित कराता है । अजीत प्रियदर्शी ने जनपद के कवि त्रिलोचन पर टिप्पणी करते हुये आज उनकी जरुरत पर बात साझा की है ।
। इसी में युवा रचनाशीलता स्तम्भ में युवा कवि भास्कर चौधुरी की कविता पर आशीष सिंह का आलेख है । इसके आवरण पर वरिष्ठ जनधर्मी कलाकार साथी क. रवींद्र जी की चित्ताकर्षक कलाकृति है ।

प्रधान संपादक - नलिन रंजन सिंह
सम्पादक - ज्ञान प्रकाश चौबे
सम्पर्क 2/ 701 सेक्टर H
जानकीपुरम लखनऊ --226001
mo 08303022033
ईमेल - kavitabihan@gmail.com
एक अंक की कीमत ---पचास


एक टिप्पणी भेजें
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
बिना अनुमति के सामग्री का उपयोग न करें. . enjoynz के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.