अभी-अभी
recent

विभोम स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर 2016 अंक


विभोम स्‍वर का अक्टूबर-दिसम्बर 2016 अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है। इस अंक में शामिल है :- संपादकीय। मित्रनामा। साक्षात्कार- कादंबरी मेहरा (सुधा ओम ढींगरा)। कहानियाँ- क्या आज मैं यहाँ होती.... (नीरा त्यागी ), एक लकीर दर्द की (विकेश निझावन ), उदास रंग (पुष्पा सक्सेना ), स्वाभिमान की ख़ुशी (संजय कुमार )। व्यंग्य- तुम बहस के हॉट केक हो ( दिलीप तेतरवे )। डायरी के अंश- स्मृति में समय (प्रताप सहगल )। संस्मरण- एक और अभिमन्यु (शशि पाधा ) । विमर्श- कफ़न कहानी (कमल किशोर गोयनका )। शहरों की रूह- शंघाई की सड़कें और गलियाँ (अनीता शर्मा )। आलोचना- समकालीन कविता (डॉ. ममता खाण्डल )। लघुकथा- प्लान (कमल चोपड़ा ), इच्छा (सुनील गज्जाणी ), वापसी का डर (मार्टिन जॉन )। दोहे- (नरेश शांडिल्य )। कविताएँ- डॉ. विनीता मेहता , सुशीला शिवराण , राहुल देव , अनिल प्रभा कुमार , एकता मिश्रा , डॉ. शैलजा सक्सेना, पारुल सिंह । ग़ज़लें- ज़हीर क़ुरैशी , विज्ञान व्रत , प्रदीप कांत, नीलांबुज ‘नील’ , संजु शब्दिता , दीपक शर्मा‘दीप’ । दृष्टिकोण- जीवन सिंह ठाकुर । शोध आलेख- सुबोध शर्मा । पुस्तक समीक्षा- पॉल की तीर्थयात्रा (अर्चना पैन्यूली )समीक्षक : डॉ. उमा मेहता उमा मेहता , काल है संक्रांति का (संजीव वर्मा ‘सलिल’ ) समीक्षक : सौरभ पाण्डेय , प्रेम सम्बन्धों की कहानियाँ (रजनी गुप्त ) समीक्षक : वंदना गुप्ता , साहित्यिक समाचार (प्रेम जनमेजय, Girish Pankaj, Lalitya Lalit, Santosh Srivastava, Yogita Yadav, Amit Mahodaya, Madan Mohan Samar, Sameer Yadav , आख़िरी पन्ना।
आपकी प्रतिक्रियाओं का संपादक मंडल को इंतज़ार रहेगा। पत्रिका का प्रिंट संस्‍करण भी समय पर आपके हाथों में होगा।

एक टिप्पणी भेजें
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
बिना अनुमति के सामग्री का उपयोग न करें. . enjoynz के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.