रात - विश्वहिंदीजन

अभी अभी

अंतरराष्ट्रीय हिंदी संस्था एवं हिंदी भाषा सामग्री का ई संग्रहालय

अपील

सामग्री की रिकॉर्डिंग सुनने हेतु नीचे यूट्यूब बटन पर क्लिक करें-

समर्थक

पुस्तक प्रकाशन सूचना

गुरुवार, 26 अप्रैल 2018

रात

रात -ओम प्रकाश नौटियाल
दूर दूर फैली रही, तिमिर ढकी वह रात
भोर किरण की टोह में , खिसकी सिसकी रात

कुटिया में दम तोडती ,उस वृद्धा की साँस
उसकी पीर न हर सकी,सरकी भटकी रात

मेघ नाद संवेग से, दिया कलेजा चीर
रो बैठी बरसात में , हिचकी ले ले रात

लुप्त गुप्त थी चाँदनी, ना तारों की दीद
अंबुद की ओढे चुनर , सहमी कँपती रात

अंगना में कुम्हार के , साये घने घनेर
माटी चिपकी चाक पर, थकती तकती रात

इस अँधियारे घोर में , जुगनु जिये औकात
लेट नीम की डाल पर , पत्ते गिनती रात
-ओंम प्रकाश नौटियाल, बड़ौदा , मोबा.9427345810

एक टिप्पणी भेजें