प्रेम जनमेजय लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
बालकृष्ण भट्ट से लेकर आज तक के व्यंग्य रचनाकारों का लगभग 1000 पृष्ठों का संकलन , ‘उत्कृष्ट व्यंग्य रचनाएं’ दो खंडों में: प्रेम जनमेजय