ग़ज़ल लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
 सदनों में कभी हंगामा,कभी जलसा होता रहा: सलिल सरोज
ज़रूरी है माँ को मुनव्वर राना की आखों से देखना: प्रकाश बादल