अभी-अभी
recent

जनकृति अंतरराष्ट्रीय पत्रिका के आगामी अंक हेतु रचनाएं, लेख एवं शोध आलेख आमंत्रित.


परिचय
जनकृति अंतरराष्ट्रीय पत्रिका, जनकृति (साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था) द्वारा प्रकाशित की जाने वाली बहुभाषी अंतरराष्ट्रीय मासिक पत्रिका है. पत्रिका मार्च 2015 से प्रारंभ हुई, जिसका उद्देश्य सृजन के प्रत्येक क्षेत्र में विमर्श के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण विषयों को पाठकों के समक्ष रखना है. इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए पत्रिका में साहित्य, कला, मीडिया, शोध, शिक्षा, विमर्श स्तंभ रखे गए हैं साथ ही अनुवाद, साक्षात्कार, प्रवासी साहित्य जैसे महत्वपूर्ण स्तंभ भी पत्रिका में शामिल किए गए हैं. पत्रिका का एक उद्देश्य सृजन क्षेत्र के हस्ताक्षरों समेत नव लेखकों को प्रमुख रूप से मंच देना है इस कारण पत्रिका में नव लेखन का स्तंभ रखा गया है. पत्रिका में शोधार्थी, शिक्षक हेतु शोध आलेख का स्तंभ भी है, जिसमें शोध आलेख प्रकाशित किए जाते हैं. पत्रिका समाज एवं सृजनकर्मियों के मध्य एक वैचारिक वातावरण तैयार करना चाहती है, जो आप सभी के सहयोग से ही संभव है अतः पत्रिका में प्रकाशित सामग्रियों पर आपके विचार सदैव आमंत्रित हैं.

जनकृति अंतरराष्ट्रीय पत्रिका अपने विभिन्न स्तंभ हेतु रचनाएँ, लेख, शोध आलेख आमंत्रित करती है. आप हमें यूनिकोड फॉण्ट में 15 अप्रैल से पूर्व jankritipatrika@gmail.com पर मेल करें. शोध आलेख के साथ विशेष तौर पर शोध सार, की वर्ड, शोध विवरण, संदर्भ सूची समेत अपनी पूर्ण जानकारी अवश्य भेजें. साहित्यिक विधाओं में रचनाएँ भेजने वाले मित्र विधा का नाम अवश्य लिखें. पत्रिका में सामाजिक विषयों पर आधारित साहित्यिक रचनाओं को स्थान दिया जाता है. 
पत्रिका देखने के लिए लिंक पर जाएँ- www.jankritipatrika.com   


-कुमार गौरव मिश्रा (संस्थापक एवं प्रधान संपादक) 
एक टिप्पणी भेजें
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
बिना अनुमति के सामग्री का उपयोग न करें. . enjoynz के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.