प्रेम की आवाज - विश्वहिंदीजन

अभी अभी

अंतरराष्ट्रीय हिंदी संस्था एवं हिंदी भाषा सामग्री का ई संग्रहालय

अपील

सामग्री की रिकॉर्डिंग सुनने हेतु नीचे यूट्यूब बटन पर क्लिक करें-

समर्थक

मंगलवार, 1 मई 2018

प्रेम की आवाज


प्रेम की आवाज -ओंम प्रकाश नौटियाल
गीतिका
प्रेम की आ्वाज अब जमाने में
तूतरी सी ज्यों नक्कारखाने में

ढह गए अरमान सुकून चैन के अब
मुद्दतें बीती जिन्हें कमाने में

मनुष्यता की बदल गई परिभाषा
है बहुत ही शान बरगलाने में

ढूंढते विकर्मी धर्म हत्याओं में
गैर बनकर रीझते सताने में

’ओंम ’ ऐसा ही रहा मंजर जो यह
युग लगेंगे फिर बहार आने में
-ओंम प्रकाश नौटियाल, बड़ौदा , मोबा.9427345810

एक टिप्पणी भेजें