- विश्वहिंदीजन

अभी अभी

अंतरराष्ट्रीय हिंदी संस्था एवं हिंदी भाषा सामग्री का ई संग्रहालय

अपील

सामग्री की रिकॉर्डिंग सुनने हेतु नीचे यूट्यूब बटन पर क्लिक करें-

समर्थक

पुस्तक प्रकाशन सूचना

बुधवार, 23 मई 2018

ऐ रुपया ! तू मित्र है या शत्रु 

-मनोज कुमार 

कभी किसी को खुशी से भरता,
और किसी को कुछ नहीं करता,
किसी की आँखों में दे शूल,
ऐ रुपया ! तू दुःख का मूल |

निर्दोष को दोषी बनाते,
दोषी को निर्दोष बनाते,
कुछ को आपस में भिड़ाते,
ऐ रुपया ! तू मित्र है या शत्रु |

तू ही है जो अमीर बनाते,
कुछ को तू गरीब ठहराते,
कुछ को तू जड़ से घहराते,
ऐ रुपया ! तू मित्र है या शत्रु |

मंदिर-मस्जिद  तुम बनवाते,
तू ही है जो इसको तुड़वाते,
और फिर नवनिर्माण कराते,
ऐ रुपया ! तू मित्र है या शत्रु |

राग-द्वेष-ईर्ष्या  तुम फैलाते ,
कभी प्रेम दया में बदल जाते,
रहस्य बता ? "मनोज" चाहता कुछ करूँ,
ऐ रुपया ! तू मित्र है या शत्रु |

 पता-आलमपट्टी, पोस्ट -पीथापुर, ज़िला -ग़ाज़ीपुर, उत्तर प्रदेश -233001 

ई -मेल  :- manojgzp3794@gmail॰com





एक टिप्पणी भेजें