संजय शेफर्ड की कविताएँ - विश्वहिंदीजन

अभी अभी

अंतरराष्ट्रीय हिंदी संस्था एवं हिंदी भाषा सामग्री का ई संग्रहालय

अपील

सामग्री की रिकॉर्डिंग सुनने हेतु नीचे यूट्यूब बटन पर क्लिक करें-

समर्थक

पुस्तक प्रकाशन सूचना

गुरुवार, 12 अक्तूबर 2017

संजय शेफर्ड की कविताएँ


मैं जिस दुनिया का वासी हूं
वहां सिर्फ तीन लोग रहते हैं
एक मैं
एक तुम
एक और तुम
हम तुम परिचित हैं
एक दूसरे से
वर्षों से
पर यह जो एक और तुम हो
उसे मैं तनिक भी नहीं जानता
तुम्हें अचंभित नहीं करना चाहता
पर यह सच है
कि एक पुरुष
जिस स्त्री से प्रेम करता है
उस स्त्री से
कभी प्रेम नहीं करता
बल्कि तुममें सांस ले रही
उस दूसरी
स्त्री से प्रेम करता है
जिसे वह जानता तक नहीं
जो अभी भी
उसकी पहुंच से कोसों दूर है
* * *
दरअसल,
बात सिर्फ पुरुष कि ही नहीं
स्त्रियों की भी है
स्त्रियां भी कभी उस पुरुष से
प्रेम नहीं करती
जिसे कि वह प्रेम करती हैं
बल्कि उसके अंदर के
उस दूसरे
पुरुष से प्रेम करती हैं
जिसे वह जानती तक नहीं
जो अभी भी
उनकी पहुंच से कोसों दूर है
इस तरह एक पुरुष
प्रेम में
सदैव दो स्त्रियों से प्रेम करता है
और एक स्त्री
सदैव दो पुरुषों से
* * *
प्रेम की दुनिया
इतनी ही छोटी है
मेरे, तुम्हारे, और
एक और मेरे-तुम्हारे के अलावा
इसमें कोई चौथा नहीं होता
इसलिए तुम दोनों मिलकर
अपने अपने अंदर के
उस इंसान को बचाकर रखना
जो तुम दोनों को
समान रूप से प्रेम करता है
प्रेम को जिन्दा रखने का
यही एकमात्र
आखिरी विकल्प है मेरी दोस्त !
एक टिप्पणी भेजें